संत श्री सत्यप्रकाश जी के “अमृत वचन”

राम जी राम ।

राम जी राम ।